Sunday 16 December 2012

Radio Japan listener's conference in Delhi.

Radio Japan listener's conference in Delhi.on 23rd Dec. 2012 at 2.00 pm
link to Radio Japan




अगर आप चाहें तो श्रोता मिलन कार्यक्रम में भाग लेने आगामी

 23 दिसंबर को पधारें नई दिल्ली । कार्यक्रम शुरू होगा दोपहर
 दो बजे से और आयोजन स्थल का पता है ये –

जापान फ़ाउंडेशन,
5 – ए रिंग रोड, लाजपत नगर – IV,
निकट मूलचन्द अस्पताल मैट्रो स्टेशन,
नई दिल्ली, 110024, भारत

आपके लिए सभागार के द्वार खोल दिए जाएँगे डेढ़ बजे से ।
हमें रहेगा आपका इंतज़ार दोस्तो आइए मिलिए हमसे 

लेकिन ध्यान रखिए इस बात का कि इस मुलाक़ात के 
लिए हम आपको किराया या किसी अन्य तरह का खर्चा
 नहीं दे पाएँगे ।
आप अपना और साथ आने वाले मित्रों, संबंधियों के नाम,

 पते, फ़ोन नंबर और ई-मेल का पता भी हमें भेज दीजिए
 ताकि आपको आमंत्रित किया जा सके ।

एनएचके हिन्दी सेवा परिवार

Japanese song : Atama Kata Hiza ashi

Japanese song : Atama Kata Hiza ashi is posted on Radio Japan web site.
Song sing by Nanji Janjani at Ravalvadi Pri. School , Bhuj Kutch Gujarat with students and teachers.

Song link :

We love Japanese songs! 2013

Atama Kata Hiza Ashi - JANJANI
Atama Kata 
Hiza Ashi
あたま かた ひざ あし
Name of original singer :
Children’s song with


International Conference on Creativity and Innovation at Grassroots (ICCIG’2012)

The Second International Conference on Creativity and Innovation at Grassroots (ICCIG’2012) commenced on Friday at Indian Institute of Management, Ahmedabad (IIMA). The two-day conference focuses on the significance of the role of grassroots innovators in the process of development.
The speakers at the conference talked about India’s inclusion of Grassroots Innovations (GRI) as an inalienable part of its national innovation system which is being articulated by economies like China too. The system has undergone complete transformation with the use of knowledge and innovations of common people.
The goal of the subject was identified as taking stock of policy, institutional, and community-based processes which have helped or can help in creating an inclusive innovation system.
The speakers debated about different ways to harness the creative potential of masses. The forum also discussed how multi-media, multi-language technologies could be used to democratise access to sustainable technologies globally.


VII All-Indian Conference of Listeners of the “Voice of Russia” Radio Station

Participants of the VII All-India Conference of the Listeners’ Clubs of the Radio Station “Voice of Russia”, held at the Russian Centre of Science and Culture (RCSC) in New Delhi, were unanimous in making an emphatic call for promoting people-to-people contacts and strengthening bilateral cooperation in reaching the information on Russia to broader sections of people in India.
The representatives from Voice of Russia who took part in the Conference comprised Ms. Natalia Benyukh, Special Correspondent, Ms. Tatiana Kopylova, Web-Site Editor, and Mr. Vladimir Ivashin, Web-Site In-Charge.
Welcoming the representatives of Voice of Russia and a large gathering of members of listeners’ clubs from all over India, Mr. Fedor Rozovskiy, Director, RCSC, noted in his welcome remarks that the conference assumed special dimension in the sense that it provided a forum to refresh and review creative and fruitful bilateral cooperation between Russia and India in the field of mass communication in the year, when our countries are celebrating the 65th Anniversary of Russian-Indian Diplomatic Relations. Acknowledging the contributions made by Voice of Russia, he said that the RCSC and the Russian Radio Station had been working shoulder-to-shoulder to attain the declared common goal of promoting humanitarian relations between our two countries and consolidating mutual understanding and friendship between our two peoples.
In his inaugural address, H.E. Mr. Alexander Kadakin, Ambassador of the Russian Federation to India, said: “It is heartening to know that these days, when the entire world is experiencing a genuine revolution, drastically changing the global informational canvas, the good old-time radio still holds attraction of its own, and the Voice of Russia’s audience is steadily growing, including that among rural intelligentsia”. In an attempt to meet modern challenges, the radio station itself is changing and expanding the broadcasting range. “As a result, a sociological survey conducted by Geneva-based International Media Organisation among listeners in 50 countries showed that the Voice of Russia holds the third position in the rating of the world’s largest broadcasters, yielding only to such pre-eminent leaders as BBC and the Voice of America”, said the Ambassador. Referring to the Radio Station’s search for new forms of presentation and aspiration for genre diversity, H. E. Mr. Alexander Kadakin  cited “News from around the globe”, “The Club of the Voice of Russia listeners”, “Programme for the youth” and the “Literary programme”.
Appreciating good response shown by the Indian audience, Ms. Natalia Benyukh, Special Correspondent, Voice of Russia, said that the Radio Station is going to start a new multi-media web-site in the English language aimed at its listeners in South Asia. The web-site will comprise photo, video and audio materials as well as a forum for open interaction between the Voice of Russia and its listeners.
Dwelling upon the new projects under consideration, Mr. Vinay Manik, Project Director, Fever FM Radio Station, suggested that consistent efforts have to be made to draw more and more Indian youth into the listeners’ clubs and preparing ground for their active involvement. He also pointed out that a ‘marriage section’ has to be incorporated to the Russian Radio Station with a view to encouraging marriages between citizens from both sides.
The Conference was addressed by Mr. Jasbr Nischal, General Secretary, Indian Association of Friendship with Foreign Countries, and Ms. Nirmal Bhatnagar, Dean, Department of Mass Communication, Jagannath Institute of Management Studies, who lauded the significant role played by Voce of Russia disseminating information on Russia and promoting bilateral friendship and cooperation.
During the conference representatives of the Voice of Russia awarded the winners of the Radio Quiz on Indo-Russian relations. Nanji Janjani , teacher from Gujarat got first prize.
 Natalia Benyukh VOR Correspondence and Tanya Kopylova VOR Hindi announcer
 Tanya Kopylova VOR Hindi announcer  with VOR listener
Nanji Janjani 

Tuesday 11 December 2012


रेडियो रूस की प्रतियोगिताओं (2012) के परिणाम

विषय: दिल्ली में रेडियो रूस के श्रोताओं का सम्मेलन (10 टिप्पणियाँ) ноябрь коллаж Тадж Махал Кремль наушники радио Индия Россия
पहला पुरस्कार:
नानजी जानजानी जी

दूसरा पुरस्कार:
रवि श्रीवास्तव जी और मितुल कंसल जी

तीसरा पुरस्कार:
मिस अनुभा जी और जयंत चक्रवर्ती जी

प्रोत्साहन पुरस्कार:
चुन्नीलाल कैवर्त जी
मुहम्मद शमीम जी
बद्री प्रसाद वर्मा जी
सुरेश अग्रवाल जी
दीपक कुमार जी
निलेश कुमार जी
एस. शर्मा जी
प्रमोद महेश्वरी जी
काव्य प्रतियोगिता के विजेता:
कृष्णा मुरारी सिंह किसान जी

हम विजेताओं और अपने सभी श्रोताओं को हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएँ देते हैं!
हम 8-9 दिसंबर होने वाले 7वें श्रोता सम्मेलन की बेसब्री से प्रतीक्षा कर रहे हैं।


रेडियो रूस प्रतियोगिता का पहला पुरस्कार एक अध्यापक ने जीता

9.12.2012, 18:37
प्रिंट करेंअपने मित्रों को बताएँब्लॉग में लगाएँ
रेडियो रूस प्रतियोगिता का पहला पुरस्कार एक अध्यापक ने जीता
Photo: "The Voice of Russia"
नई दिल्ली स्थित रूस के विज्ञान और संस्कृति केन्द्र में रूसी भारतीय सहयोग को समर्पित रेडियो रूस की वर्ष 2012 की प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्कृत किया गया। यह पुरस्कार समारोह 8 और 9 दिसम्बर को रेडियो रूस के श्रोता-क्लबों के सातवें अखिल भारतीय दो दिवसीय सम्मेलन के अन्तर्गत आयोजित किया गया था। इस सम्मेलन में रेडियो रूस के 150 श्रोता-क्लबों के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया। इस सम्मेलन में फ़ीवर 104 एफ़०एम० रेडियो के निदेशक भी उपस्थित रहे। सम्मेलन में मुख्य अतिथि थे -- भारत स्थित रूस के राजदूत अलेक्सान्दर कदाकिन।
रेडियो रूस द्वारा वर्ष 2012 में आयोजित प्रतियोगिता का पहला पुरस्कार गुजरात राज्य के दूर-दराज के भुज और कच्छ के इलाके में स्थित अरिहंत नगर नामक क़स्बे के वर्ल्ड रेडियो लिस्नर्ज क्लब के अध्यक्ष श्री ननजी जनजानी को दिया गया जो एक स्कूल में अध्यापक हैं। पुरस्कार में उन्हें इलैक्ट्रोनिक टेबलेट कम्प्यूटर मिला है। हमारी संवाददाता को अन्तर्वार्ता देते हुए और ख़ुशी से मुस्कुराते हुए ननजी जनजानी ने कहा -- मैं आज बेहद ख़ुश हूँ। प्रतियोगिता के सवाल बेहद कठिन थे। लेकिन उनके उत्तर देने की तैयारी के दौरान मैंने रूस के बारे में ढेर सारी नई जानकारियाँ पा लीं। रूस और भारत के ऐतिहासिक सम्बन्धों के बारे में, दो देशों के बीच आज किए जा रहे सहयोग के बारे में तथा सहयोग की भावी परियोजनाओं के बारे में मुझे बहुत-सी जानकारियाँ मिलीं। मैं अपने छात्रों को भी उनसे परिचित कराऊँगा। ननजी जनजानी ने कहा :
हमारे स्कूल में, जहाँ मैं पढ़ाता हूँ विद्यार्थी और अन्य अध्यापक रेडियो रूस के बारे में यह बात जानते हैं कि वह भारतीय भाषाओं में प्रसारण करता है और वे लोग रेडियो रूस सुनते भी हैं। मैं रूस के बारे में, उसकी संस्कृति, कला और उसकी सामयिक अर्थव्यवस्था के बारे में अपने छात्रों का ज्ञान बढ़ाने की कोशिश करता हूँ। हम भारत-रूस सम्पर्कों से जुड़ी सभी घटनाओं पर नज़र रखते हैं और उन पर चर्चा करते हैं। हमें मालूम है कि हाल ही में दिल्ली में मास्को को समर्पित दिवसों का आयोजन किया गया था। हम रूस के राष्ट्रपति व्लदीमिर पूतिन की आगामी भारत यात्रा की बड़ी बेचैनी से प्रतीक्षा कर रहे हैं।
जयन्त चक्रवर्ती दिल्ली में रहते हैं और रेडियो रूस की वर्ष 2012 की प्रतियोगिता के एक विजेता हैं। रेडियो रूस की तरफ़ से पुरस्कार में उन्हें एफ़०एम० ट्रांजिस्टर और एम०पी०-3 प्लेयर मिला है। पुरस्कार पाने के बाद ख़ुशी से किलकते हुए उन्होंने कहा -- मैं इसी तरह का पुरस्कार पाना चाहता था। अब मैं इस नए ट्रांजिस्टर पर 'फ़ीवर-104 एफ़०एम०' चैनल पर 'विद लव फ़्रॉम रशिया' कार्यक्रम सुना करूँगा। यह कार्यक्रम रेडियो रूस के कार्यक्रमों के अलावा सुना जा सकता है। सुनने लायक कार्यक्रम है और मुझे बहुत पसन्द है। जयन्त चक्रवर्ती ने कहा -- मैं पचास साल का हो चुका हूँ और यह जानकर अचम्भा मत करिए कि मैंने हाल ही में रूसी भाषा सीखनी शुरू कर दी है। मैंने महसूस किया है कि रेडियो रूस और फ़ीवर 104 एफ़०एम० की सहायता से रूसी भाषा सीखना मुश्किल नहीं है। जयन्त चक्रवर्ती ने कहा :
मैं पिछली सदी के सातवें दशक से ही रेडियो रूस के कार्यक्रम सुनता रहा हूँ। पिछले कुछ सालों से मैं रेडियो रूस की हिन्दी, बंगला और उर्दू वेबसाइटों को भी नियमित रूप से देख रहा हूँ। मेरे साथ-साथ मेरे परिवार के सभी सदस्य यानी मेरी पत्नी दीपा और मेरा 18 वर्षीय बेटा जयदीप भी, नियमित रूप से रेडियो रूस के कार्यक्रम सुनते हैं और रेडियो रूस की वेबसाइट देखते हैं। मेरे बेटे के बहुत सारे दोस्त भी, उसे देख-देखकर, अब रेडियो रूस के कार्यक्रम सुनने लगे हैं। मैं बेहद ख़ुश हूँ कि पहली जनवरी से रेडियो रूस नई सँयुक्त वेबसाइट शुरू करने जा रहा है, जिसमें भारतीय भाषाओं के अलावा अँग्रेज़ी भी शामिल होगी और इस वेबसाइट पर दक्षिणी एशिया की सूचनाएँ होंगी। मेरा मानना है कि यह वेबसाइट वास्तव में दिलचस्प होगी।
नई दिल्ली में हुए श्रोताओं के सम्मेलन में रेडियो रूस के कार्यक्रमों और रेडियो रूस की वेबसाइट पर प्रस्तुत सामग्री पर भी विस्तार से चर्चा हुई। प्रशंसा के साथ-साथ श्रोताओं ने आलोचना भी की और कुछ ठोस प्रस्ताव भी रखे। रेडियो रूस के कुछ युवा और सक्रिय श्रोताओं ने अपनी-अपनी पहलें पेश कीं। तीस वर्षीय अमीर आज़मी 'अवाम एक्सप्रेस' नामक उर्दू के एक अख़बार के सम्पादक हैं। दिल्ली के उर्दू के अख़बारों में यह सबसे बड़ा अख़बार माना जाता है। अमीर आज़मी ने कहा कि मैं पिछली तीन पीढ़ियों से रेडियो रूस का श्रोता हूँ। रेडियो रूस जब 'मास्को रेडियो' के नाम से प्रसारण किया करता था तो मेरे बाप-दादा भी मास्को रेडियो सुना करते थे। अब यह पारिवारिक परम्परा मैंने आगे जारी रखी है। अमीर आज़मी ने कहा :
रेडियो रूस के श्रोता-क्लबों के इस सातवें अखिल भारतीय दो दिवसीय सम्मेलन के बारे में मैं अपने अख़बार 'अवाम एक्सप्रेस' में एक बड़ी रिपोर्ट प्रकाशित करूँगा। हम अक्सर रूस में घटने वाली घटनाओं के बारे में ख़बरें छापते रहते हैं। मेरे लिए रेडियो रूस की वेबसाइट रूस के बारे में जानकारियों का एक बड़ा खजाना है। हम इसका इस्तेमाल बढ़ाते जा रहे हैं। मैं रेडियो रूस के श्रोता-क्लबों के सातवें अखिल भारतीय सम्मेलन के सहभागियों से यह अपील करना चाहता हूँ कि वे 'ऑल इण्डिया लिस्नर्ज़ नेट वर्क' के साथ जुड़ जाएँ। मैं रेडियो श्रोताओ के इस संगठन का सेक्रेटरी हूँ और इसमें सारे भारत के रेडियो श्रोता क्लब शामिल हैं। 'ऑल इण्डिया लिस्नर्ज़ नेट वर्क' के सदस्य संगठन भी रेडियो रूस के बारे में और उसके श्रोता-क्लबों के बारे में जानकर बेहद ख़ुश होंगे।
दोस्तो, रेडियो रूस भी अपने श्रोता-क्लबों के सातवें अखिल भारतीय सम्मेलन में पेश किए गए इस प्रस्ताव से सहमत है और अपनी वेबसाइट पर इस प्रस्ताव के बारे में विस्तार से चर्चा करने को तैयार है।
रेडियो रूस की वेबसाईट पर आप रेडियो रूस के श्रोता-क्लबों के सातवें अखिल भारतीय सम्मेलन की वीडियो फ़िल्में और तस्वीरें जल्दी ही देख सकेंगे।

Monday 10 December 2012

International Conference on Creativity and Innovation at Grassroots (ICCIG 2012)

International Conference on Creativity and Innovation at Grassroots ICCIG 2012)
December 7-8, 2012 at IIM, Ahmedabad, India


Thursday 29 November 2012


સી . આર . સી . - બી . આર . સી . સજ્જતા તાલીમ 

કચ્છ જીલ્લા ના સી . આર . સી . - બી . આર . સી . સજ્જતા તાલીમ માધાપર ની એમ . એસ . વી . હાઈસ્કુલ માં તા . 19-11-2012 થી તા . 24-11-2012 નાં રાખવામાં આવી હતી . આ તાલીમ જીલ્લાપ્રાથમિક  શિક્ષણ અધિકારી અને જીલ્લા પ્રોજેક્ટ કો-ઓર્ડીનેટર શ્રી નટવરસિંહ રાઠોડ સાહેબે તાલીમ નાં ઉદ્ઘાટન સત્ર માં પ્રેરણાત્મક  વક્તવ્ય આપ્યું હતું . તાલીમ નાં વર્ગ સંચાલક તરીકે સોનલબેન દવે અને તજજ્ઞ તરીકે લક્ષમણભાઈ ગઢવી , કશ્યપ જોશી , રશીકભાઈ લીમ્બાચીયા , પરેશ ચૌહાણ , યોગેશ મહેતા, અશોક પરમાર વગેરે એ સેવા આપી હતી . ભુજ બી આર સી શ્રી ભૂપેશભાઈ ગોસ્વામી એ તાલીમ ની વ્યવસ્થા સંભાળી હતી . 

Tuesday 16 October 2012


रेडियो रूस पर के कार्यक्रम "आप के पत्रों की समीक्षा № ११६"  में नानजी जनजानी के  पत्र  का उल्लेख |
रेडियो रूस के संवाददाता श्रीमती ल्युद्मिलाजी और श्री कश्मिर्जी द्वारा रेडियो रूस की वर्ष २०१२ की वार्षिक प्रतियोगिता के प्रश्नों के उत्तर पर समीक्षा की गयी है |

आप के पत्रों की समीक्षा № 116

13.10.2012, 15:46
प्रिंट करेंअपने मित्रों को बताएँब्लॉग में लगाएँ
Письма рабочий стол

Tuesday 9 October 2012

पृथ्वी से टकराकर ख़तरा बनने वाली ग्रहिका पर रूस रेडियो यंत्र लगाएगा

पृथ्वी से टकराकर ख़तरा बनने वाली ग्रहिका पर रूस रेडियो यंत्र लगाएगा

Tपृथ्वी से टकराकर ख़तरा बनने वाली ग्रहिका पर रूस रेडियो यंत्र लगाएगा
एपोफ़ीस नामक उ
स ग्रहिका पर जिसके पृथ्वी से टकराने का ख़तरा है, रूस रेडियो उपकरण लगाने की योजना बना रहा है। सोमवार को सौर प्रणाली के बारे में मास्को में आयोजित एक सिम्पोजियम में रूस के अंतरिक्ष संगठन 'रोसकोसमोस' के प्रमुख व्लदीमिर पपोवकिन ने यह जानकारी दी।
इस परियोजना पर सन् 2020 के बाद अमल किया जाएगा। एक अंतरिक्ष यान इस ग्रहिका पर उतरकर उस पर एक रेडियो-उपकरण लगा देगा। फिर रेडियो तरंगों के माध्यम से ग्रहिका के भ्रमण का एकदम सटीक बैलिस्टिक नक्शा बनाना संभव होगा।
जैसाकि वैज्ञानिकों ने घोषणा की है, सन् 2020 से 2030 के बीच अपोफ़ीस नामक यह ग्रहिका दो बार पृथ्वी के इतने नज़दीक से गुज़रेगी कि उससे टकरा भी सकती है।

अक्तूबर माह की पहेली

अक्तूबर माह की पहेली 

भारत और चीन के बीच युद्ध के 50 साल पूरे हो गए. इस दौरान दोनों देशों ने आर्थिक क्षेत्र में काफी प्रगति की है और विश्व में अपना अपना मुकाम हासिल कर लिया है. इसी से जुड़ा है हमारा इस महीने का सवाल.
1962 में भारत और चीन के बीच हुए युद्ध ने दोनों देशों को काफी नुकसान पहुंचाया. हमारा सवाल है.
चीन से लड़ाई के दौरान भारत के प्रधानमंत्री कौन थे?
ए. जवाहरलाल नेहरू
बी. लाल बहादुर शास्त्री
सी. इंदिरा गांधी
अपने जवाब 31 अक्तूबर 2012 तक आप डाक, ईमेल या एसएमएस के जरिए हमें भेज दें. विजेताओं के नाम हमारी वेबसाइट और फेसबुक पर जारी किए जाएंगे. सभी विजेताओं को पत्र से भी सूचित किया जाएगा. आप अपना नाम और पता साफ साफ अक्षरों में जरूर लिखें.
हमारा पता जर्मनी में:
Deutsche Welle
Hindi Service
53110 Bonn
Tel.No. 0049 228 429-4760
Fax No.0049 228 429-4720
एसएमएस: +91 9967354007
वॉयसमेल: 0049 228 429 16 4176
भारत में:
Deutsche Welle
Hindi Service
Post Box No. 5211
New Delhi – 110021 / INDIA

अन्तिसा ह्विचावा संसार की सबसे वयोवृद्ध महिला नहीं रही |

संसार की सबसे वयोवृद्ध महिला नहीं रही

долгожитель, старейшая жительница, Антиса Хвичава

जार्जिया के पश्चिम में स्थित साचिनो गांव में रह रही अन्तिसा ह्विचावा नाम की महिला अब इस संसार में नहीं रहीं| वह इस देश की, और कुछ आंकड़ों के अनुसार तो, संसार की सबसे वयोवृद्ध महिला थीं| गत जुलाई में वह 132 वर्ष की हुई थीं| उन्हें उनके गांव में ही दफनाया गया है| हजारों लोगों ने उन्हें अंतिम विदाई दी| इनमें उनके सगे-संबंधी, परिचित, गांववासी और आस-पड़ोस के गाँवों के लोग भी थे| जार्जिया में पिछले दिनों चुनाव-आदि की घटनाओं के कारण इस सबसे वयोवृद्ध महिला के निधन के समाचार की ओर स्थानीय संचार साधनों का समय से ध्यान ही नहीं गया| मृत्यु के कुछ दिन बाद ही इसकी खबर दुनिया में फैली है|


06.30-07.30 PM
08.30-09.30 PM

Monday 8 October 2012

रेडियो रूस की फ़ोटो प्रतियोगिता के विजेता हैं ननजी जनजानी

रेडियो रूस की फ़ोटो प्रतियोगिता और इंटरनेट प्रतियोगिता के परिणाम घोषित

रेडियो रूस की फ़ोटो प्रतियोगिता और इंटरनेट प्रतियोगिता के परिणाम घोषित
सन् 2012 के शुरू से ही रेडियो रूस ने 'रेडियो रूस की वेबसाइट' से जुड़ी दो तिमाही प्रतियोगिताएँ आयोजित करनी शुरू की थीं। एक प्रतियोगिता के अनुसार रेडियो रूस की वेबसाइट पर सर्वाधिक सक्रिय रहने वाले यूजर को पुरस्कृत किया जाता है और दूसरी प्रतियोगिता के अनुसार रेडियो रूस को अपने श्रोता क्लब की सर्वश्रेष्ठ फ़ोटो भेजने वाले को पुरस्कृत किया जाता है।
हम अपने उन सभी पाठकों और श्रोताओं के आभारी हैं, जो हमारी हिन्दी वेबसाइट पर आकर नियमित रूप से भ्रमण करते हैं और रेडियो रूस के कार्यक्रम सुनते हैं। दीपक कुमार, चुन्नीलाल कैवर्ट, प्रमोद माहेश्वरी और रोहिताश्व दुबे हमारी वेबसाइट पर नियमित रूप से आते हैं।
लेकिन बीती तिमाही में रेडियो रूस की वेबसाइट पर सबसे ज़्यादा सक्रिय रहे हैं-- 'राजबाग़ रेडियो लिस्नर्ज क्लब' सीतामढ़ी, बिहार के हमारे श्रोता और पाठक अतुल कुमार। अतुल जी रेडियो रूस की वेबसाइट पर प्रकाशित हर ख़बर को बड़े ध्यान से पढ़कर उस पर टिप्पणी करना भी नहीं भूलते हैं।
फ़ोटो प्रतियोगिता के विजेता रहे हैं भुज-कच्छ के 'वर्ल्ड रेडियो लिस्नर्ज क्लब' के अध्यक्ष ननजी जनजानी। ननजी जनजानी जी ने हमें अपने क्लब द्वारा आयोजित गतिविधियों की बहुत-सी अच्छी-अच्छी तस्वीरें भेजी हैं।
प्रिय मित्रो ! हम आप दोनों को बधाई देते हैं और आपके प्रति अपना आभार व्यक्त करते हैं कि आप लोग इतने ज़्यादा सक्रिय हैं। अपने अन्य श्रोताओं और पाठकों के लिए हम यह शुभकामना करते हैं कि अगली तिमाही में उनकी विजय हो और रेडियो रूस का अगला तिमाही पुरस्कार उन्हें ही मिले।

Monday 17 September 2012


(1) वक्तव्य 
(2) निबंध लेखन 
(3) वेशभूषा